११ बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे

By adarsh

Updated on:

Table of contents

• परिचय

• श्री हनुमान चालीसा क्या है?

• हनुमान चालीसा के फायदे

• हनुमान चालीसा को रोज़ पढ़ने का तरीका

• समापन

परिचय

परिचय हनुमान चालीसा, वो चालीसा है जिसे पढ़ने के लिए आपको हनुमान जी के श्रद्धालु होने की आवश्यकता नहीं है। हाँ, आप यह सुनकर थोड़ी सी हैरानी महसूस कर सकते हैं। फिर भी, ये सच है कि इस चालीसा का उच्चारण करने से आपको अनेक वरदान प्राप्त हो सकते हैं। यह चालीसा न सिर्फ आपकी आस्था को मजबूत बनाती है, बल्कि आपकी जीवन को भी सुखी और समृद्ध बनाती है। हनुमान चालीसा की उपयोगिता के बारे में अनेक मान्यताएं हैं। इसके अलावा, ये चालीसा बड़े ही सरल और असाधारण तरीके से पढ़ी जा सकती है। आप इसे अपने घर में या किसी भी स्थान पर पढ़ सकते हैं, और इसकी कोई निश्चित संख्या नहीं होती है। आप बस एक ही रुपये पर भरोसा कर सकते हैं – जोहान पात्रा की कविता निर्धारित दिन में बहुत पढ़ने वाला था। जब तक ऐसा न हो जाए, अपनी आस्था को बनाए रखने के लिए आप हनुमान चालीसा का आधिकारिक वर्जन (जो हर किसी की तुलना में थोड़ा संक्षिप्त होता है) पढ़ सकते हैं। इसे ज़रूर पढ़ें, वो भी ११ बार। चलो, इतनी मेहनत तो कर ही सकते हैं, वरना ‘हनुमान चालीसा’ से ‘हनुमान दुहाई’ या ‘हनुमान आरती’ तक पहुंचेंगे, तो अच्छा होगा, हाय राम!

श्री हनुमान चालीसा क्या है?

श्री हनुमान चालीसा क्या है? हनुमान चालीसा, बतौर मान्यता का सबसे प्रमुख हिन्दू धार्मिक पाठ है। यह बोलचाल के लोग व्‍यक्तिगत और सामाजिक परिस्‍थितियों में शुभता और कर्म विश्‍वास बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करते हैं। कहीं बार हनुमान चालीसा पाठ एक कठिनाइयों वाला काम को आसान बना देता है या बुरी नजर, बीमारी और नकारात्मकता जैसी परेशानियों का हल प्रदान करता है। हनुमान चालीसा का पाठ करने से दिमाग़ बड़ा और अच्‍छा बनता है जिससे ज्ञान और बुद्धि में सुधार होता है। यह पाठ न सिर्फ स्‍वास्‍थ्‍य पर अच्‍छा प्रभाव डालता है, बल्कि मानसिक चिंताओं को दूर करके शांति और संतुलन भी प्रदान करता है। इसके साथ ही, हनुमान चालीसा के पाठ करने से धन, समृद्धि, और उत्तम सामर्थ्य का विकास होता है। और हाँ, अगर तुम चाहते हो कि तुम्हारे जीवन में कोई भी बुरा संकेत ना हो, तो हनुमान चालीसा को पढ़ते रहो यार! तो, इसे हर रोज़ पढ़ो और आपको देखने के लिए मैं तैयार हूं कि आपकी लाइफ एकदम ढेरनादेर हो जाएगी!

हनुमान चालीसा के फायदे

हनुमान चालीसा, एक सनातन धर्मग्रंथ है जिसे हिंदू धर्म में विशेष महत्व दिया जाता है। यह पूरे कार्यक्रम में हनुमान जी की महिमा का वर्णन करता है और उनकी कृपा से भक्त को आनंद और समृद्धि प्रदान करता है। इसे पढ़ने का एक मान्यता प्राप्त तरीका है जिसे लोग सदियों से मानते आए हैं। हनुमान चालीसा के पाठ से व्यक्ति को कई लाभ प्राप्त होते हैं। यहां हम चंद महत्वपूर्ण फायदे देखेंगे, जो आपको विश्वास दिलाएँगे कि हनुमान चालीसा आपके जीवन में चमत्कारिक परिवर्तन ला सकती है। तो चलिए शुरू हो जाएं और इन फायदों के बारे में जानते हैं। 1. दुष्ट शत्रुओं से मुक्ति: हनुमान चालीसा के पाठ से, आप भगवान हनुमान की कृपा से अपने जीवन में स्थिरता और सुरक्षा का आनंद उठा सकते हैं। यह आपको दुष्ट शत्रुओं से सुरक्षा प्रदान करता है, जो आपकी आत्मिक शक्ति को मजबूत बनाकर आपको सफलता की राह में मदद करता है। 2. भक्ति में वृद्धि: हनुमान चालीसा को पढ़ने से आपकी भक्ति में वृद्धि होती है। यह आपको तत्परता के साथ देवी-देवताओं के प्रति समर्पण की भावना से भर देता है और आपके मानसिक और आध्यात्मिक विकास को संदेश देता है। 3. रोगों का निवारण: हनुमान चालीसा के पाठ से शरीरिक और मानसिक रोगों का निवारण हो सकता है। इसकी शक्ति आपको उच्च ऊँचाईयों तक ले जा सकती है, जहां रोगों का कोई प्रभाव नहीं हो सकता। 4. स्वास्थ्य को सुरक्षा: हनुमान चालीसा की मदद से, आपका स्वास्थ्य सुरक्षित और मजबूत होता है। यह आपको रोगों से बचाकर शरीर की क्रियाओं को सुचारू रूप से संचालित करता है और आपको स्वस्थ और कुशलतापूर्वक जीने में मदद करता है। 5. मन की शांति: हनुमान चालीसा पढ़ने से, आपका मन शांति और सुख की ओर दिशा लेता है। यह आपको तनाव मुक्त करके मानसिक चिंताओं से राहत देता है और शांति और सुख की अनुभूति कराता है। 6. धन और समृद्धि: हनुमान चालीसा के पाठ से, आप आर्थिक स्थिति में सुधार कर सकते हैं। यह आपको धन, समृद्धि और आर्थिक लाभ की प्राप्ति में मदद करता है और आपको आर्थिक सरोकारों में सफलता प्रदान करता है। 7. सही मार्गदर्शन: हनुमान चालीसा के पाठ से, आपको जीवन के सभी क्षेत्रों में सही मार्गदर्शन प्राप्त होता है। यह आपको अधिकार प्राप्त करने, सफलता पाने और जीवन को सुखी और संतुष्ट बनाने का मार्ग दिखाता है। 8. बुद्धि और ज्ञान का विकास: हनुमान चालीसा को पढ़ने से, आपकी बुद्धि और ज्ञान का विकास होता है। यह आपको विचारशीलता, समझदारी और ज्ञान की वृद्धि करने में मदद करता है और आपके मानसिक विकास को पोषण देता है। 9. शुभ संकेत: हनुमान चालीसा के पाठ से, आप पूर्णता, कर्म सफलता और शुभ संकेतों को प्राप्त कर सकते हैं। यह आपको संकेत देकर आपके जीवन में शुभ घटनाओं का आनंद उठाने में मदद करता है। 10. नकारात्मकता से मुक्ति: हनुमान चालीसा पढ़ने से, आप नकारात्मकता और अस्वास्थ्यकर मानसिकता से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं। यह आपको उज्ज्वलता, आनंद और सकारात्मक सोच की ओर ले जाता है। 11. अपार संयम: हनुमान चालीसा को पढ़ने से, आपको अपार संयम और दृढ़ता प्राप्त होती है। यह आपको अपने लक्ष्यों की प्राप्ति में मदद करता है और आपको जीवन में सफलता की ऊँचाईयों तक ले जाता है। हाँ, इन सभी फायदों को हनुमान चालीसा पढ़ने से प्राप्त कर सकते हैं! तो चलिए, इस अद्भुत चालीसा की कृपा प्राप्त करें और अपने जीवन को संतुष्टिपूर्ण, खुशहाली से भर दें।

हनुमान चालीसा को रोज़ पढ़ने का तरीका

हनुमान चालीसा को रोज़ पढ़ने का तरीका: हनुमान चालीसा को रोज़ पढ़ने का तरीका सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि क्या यह कोई रूटीन कार्य है, जैसे मुम्बई का टैम्पो ट्रेन या फिर सैन्य छक्का म्हाराष्ट्रीयन स्टाइल में. कहने का मतलब हर सुबह उठकर आपको हनुमान चालीसा पर लगनी चाहिए जैसे आप रोज़ केलोग्स फिट होते हैं. कुछ लोग हर बुधवार और शनिवार को हनुमान चालीसा पढ़ते हैं, लेकिन आप चाहें तो हर दिन पढ़ सकते हैं. ध्यान रखें, जब तक आप रटना नहीं सीख लेते, चालीसा को पढ़ना शुरू करने से पहले उसका अर्थ समझ लो. वह वरदान नहीं होगा, जब किसी अनजाने सफर की बस या अर्विंद केजरीवाल की बात से आई छोटी सी जटका तब आपकी कान में आवाज़ आती है “क्यूं नहीं रटते मुझे!” समय और स्थान की सीमा नहीं होती हनुमान चालीसा को पढ़ने की. जहां भी आप चाहें, जब चाहें, कितनी बार चाहें, इसे पढ़ सकते हैं. करें फ्री स्टाइल में हनुमान चालीसा का आपराध. क्या पता, आपके इस अद्भुत क्रम से ही आपको हनुमान जी की कृपा मिल जाए. वैसे भी, कौन नहीं चाहेगा हर सुबह ऐसे जगने? सोचो, अगर आपकी बगल वाली महिला सवारी ट्रेन में जन्म थी तो आपका कर्म कौन-सा होगा? आपको कौन ज्यादा जटील लगता है – हर रोज़ दो बिस्तर की शीट चेंज करना या हनुमान चालीसा पढ़ना? अगर आपको सच में हनुमान जी के गुण और चालीसा के फायदे पता है, तो यह टास्क आपके लिए सिर्फ़ काम की बात होगी. जब आप रोज़ इसे पढ़ते होंगे, तो आप ठाकुर जी को यह महसूस होगा कि आप बिना बाते उन पर गुस्सा नहीं करते. वो आपके नाम के साथ-साथ चक्कर भी चलेंगे क्योंकि दिमाग़ में सब ठिक रहेगा. आप एकदम कुलख कुटिल की तरह नहीं करेंगे. – सच में, वो आपकी बातें सुनेंगे! हम यहाँ तो बता रहे हैं हनुमान चालीसा को रोज़ पढ़ने का तरीका. आप कैसे, कहां और कब पढ़ें, वो तो आपके स्वतंत्र हाथ मैं है. बस, इक्का ध्यान रहे की आप किसी भी बात पर चालीसा पढ़ने में न उलझ जाएँ… हनुमान चालीसा का पाठ काम करेंगा श्रद्धा से, प्यार से और बेफ़िक्री से!

समापन

हनुमान चालीसा के फायदों की बात करने के लिए, एक बात तो स्पष्ट है कि यह समाप्त होने की कोई उम्मीद नहीं रखता। हर फेंक रुकावट को धूल चटा देने और नये जीवन को इशारों में बर्दाश्त करने का कारण इससे प्राप्त होने वाले लाभ हैं। सोचिए एक ऐसा संयम जिसे अप्रतिम कहा जा सकता है। एक ऐसे संयम जिसे अपार संयम भी कह सकते हैं। हनुमान चालीसा पढ़कर आप सिर्फ एक संयम का सामर्थ्य नहीं बढ़ाते हैं, बल्कि आपको स्वयं को भी संयम सिखाते हैं। हम जानते हैं, आपने अब तक इसे तीन-चार बार पढ़ लिया होगा। चलिए, अब गणेश का गीत गाते हैं। अतिरिक्त संकेत: याद रखें, यहाँ सिर्फ बताया गया है कि फायदों की बात करें।

adarsh

Leave a Comment