हनुमान चालीसा का पाठ करने का तरीका

By adarsh

Published on:

हनुमान मंत्र: नौकरी के लिए

1. स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें। 2. हनुमान जी की प्रतिमा या मूर्ति के सामने बैठें। 3. दीप प्रज्ज्वलित करें और धूप-दीप से हनुमान जी की आरती करें। 4. हनुमान जी को फल, फूल और मिठाई का भोग लगाएं। 5. हनुमान चालीसा का पाठ शुरू करने से पहले श्री गणेश और कुल देवता का स्मरण करें। 6. हनुमान चालीसा का पाठ धीमी और स्पष्ट आवाज में करें। 7. पाठ करते समय मन में हनुमान जी का ध्यान लगाएं। 8. पाठ पूरा करने के बाद हनुमान जी की आरती करें और प्रसाद वितरित करें।

हनुमान चालीसा का पाठ करने का समय:

हनुमान चालीसा का पाठ किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन मंगलवार और शनिवार का दिन हनुमान जी के लिए विशेष माना जाता है। इन दिनों हनुमान चालीसा का पाठ करने से विशेष लाभ मिलता है।

Untitled design 1

हनुमान चालीसा पाठ करने के लाभ:

हनुमान चालीसा का पाठ करने से अनेक लाभ मिलते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • मन की शांति: हनुमान चालीसा का पाठ करने से मन शांत होता है और नकारात्मक विचार दूर होते हैं।
  • भय का नाश: हनुमान चालीसा का पाठ करने से भय का नाश होता है और साहस बढ़ता है।
  • मनोकामना पूर्ति: हनुमान चालीसा का पाठ करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।
  • कष्टों का नाश: हनुमान चालीसा का पाठ करने से कष्टों का नाश होता है और जीवन में सुख-समृद्धि आती है।

हनुमान चालीसा का पाठ:

श्री गुरु चरण सरोज रज, निजमन मुकुट धारि। बरनौं रघुवर विमल यश, जो दासन के हितकारी।

आरती कीजै हनुमान लाल की, जो कोटि सूर्य सम काहैं। जै जय जय हनुमान गोसाईं, कृपा करहु गुरुदेव की नाई।

जय हनुमान ज्ञान गुण सागर। जय कपिराज सुमिरि पावन। जय बजरंग बली महावीर। जय पवनसुत नाम की वीर।

अंजनी पुत्र हनुमान। भीष्म को दीन्ह ज्ञान। लंका जारि लंकेश्वरी। जिया जगत को आन।

लांघ्यो समुद्र रांघ। माता सीता रिझाई। राम लखन को शीश नवायो। यथा सुख लव पाई।

भूत पिशाच निकट न आवै। नर देवता नरक न जाई। हनुमान के भजन से उबरे। सब पीड़ा हरि जाई।

संकट कटे मिटे सब पीड़ा। जो सुमिरै हनुमान चालीसा। लौं लवकर घर जाई। जो चाहे सो लाभ पाई।

संतान होय सुखकारी। धन धान्य पुर भरि जाई। मन क्रम वचन ध्यान जो लावै। तेहिं हरि काज सिद्धि हो जाई।

जय जय जय हनुमान गोसाईं। कृपा करहु गुरुदेव की नाई।

अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता। अवतारित हुऐ राम सहाय। लंका जारि लंकेश्वरी। जिया जगत को आन।

**जय जय जय हनुमान गो

अवधी भाषा आध्यात्मिकता कठिनाई गोस्वामी तुलसीदास चौपाई धार्मिक ग्रंथ नुमान चालीसा का पाठ करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? बुद्धि भक्ति भगवान हनुमान शक्ति सफलता हनुमान चालीसा का महत्व साहस स्तुति हनुमान चालीसा हनुमान चालीसा का अनुवाद हनुमान चालीसा का अनुवाद किस भाषा में उपलब्ध है? हनुमान चालीसा का अर्थ हनुमान चालीसा का अर्थ क्या है? हनुमान चालीसा का ऑडियो हनुमान चालीसा का ऑडियो कहां मिल सकता है? हनुमान चालीसा का पाठ हनुमान चालीसा का पाठ करने का तरीका हनुमान चालीसा का वीडियो हनुमान चालीसा का वीडियो कहां देख सकते हैं? हनुमान चालीसा की रचना की कहानी हनुमान चालीसा के लाभ हनुमान चालीसा कैसे लिखी गई? हिंदू धर्म

adarsh

Leave a Comment