हनुमान चालीसा पढ़ने के कुछ मुख्य लाभ

By adarsh

Published on:

हनुमान मंत्र: नौकरी के लिए

हनुमान चालीसा हिंदू धर्म में भगवान हनुमान को समर्पित एक भक्तिपूर्ण गीत है। यह 40 चौपाइयों से बनी है और इसे तुलसीदास द्वारा लिखा गया है। हनुमान चालीसा को हिंदू धर्म में एक शक्तिशाली मंत्र माना जाता है और इसका नियमित पाठ करने से कई लाभ मिलते हैं।

हनुमान चालीसा पढ़ने के कुछ मुख्य लाभ

हनुमान चालीसा पढ़ने के कुछ मुख्य लाभ निम्नलिखित हैं:
  • आत्मविश्वास में वृद्धि: हनुमान चालीसा में हनुमान जी की शक्ति और साहस का वर्णन किया गया है। इसका नियमित पाठ करने से व्यक्ति में आत्मविश्वास बढ़ता है और वह किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हो जाता है।
  • भय से मुक्ति: हनुमान जी को “भयहारी” भी कहा जाता है। हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने से व्यक्ति में भय दूर होता है और वह शांतिपूर्ण जीवन जीने में सक्षम होता है।
  • नकारात्मक ऊर्जा से मुक्ति: हनुमान जी को “शक्ति” भी कहा जाता है। हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने से व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है और नकारात्मक ऊर्जा से मुक्ति मिलती है।
  • मनोबल में वृद्धि: हनुमान चालीसा में हनुमान जी के अनेक चमत्कारों का वर्णन किया गया है। इसका नियमित पाठ करने से व्यक्ति का मनोबल बढ़ता है और वह कठिन परिस्थितियों में भी डगमगाता नहीं है।
  • आर्थिक समस्याओं का समाधान: हनुमान चालीसा में हनुमान जी को “अष्टसिद्धि और नवनिधि” के दाता कहा गया है। इसका नियमित पाठ करने से आर्थिक समस्याओं का समाधान होता है और व्यक्ति धन-धान्य से संपन्न होता है।
  • मनोकमनाओं की पूर्ति: हनुमान चालीसा में हनुमान जी की कृपा पाने के लिए प्रार्थना की गई है। इसका नियमित पाठ करने से मनोकामनाओं की पूर्ति होती है।
इसे भी पढ़े - नौकरी पाने के लिए उपाय
हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए निम्नलिखित विधि अपनाई जा सकती है:
  • सबसे पहले स्नान आदि करके साफ-सुथरे कपड़े पहनें।
  • एक साफ स्थान पर हनुमान जी की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें।
  • हनुमान जी को फूल, धूप, दीप, नैवेद्य आदि अर्पित करें।
  • हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  • पाठ के अंत में हनुमान जी से अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति की प्रार्थना करें।

हनुमान चालीसा का पाठ किसी भी समय किया जा सकता है। हालांकि, मंगलवार और शनिवार को इसका पाठ करना विशेष रूप से शुभ माना जाता है।

BUY A MOVIE BUNDAL

adarsh

Leave a Comment