राम मंदिर में किसे-किसे बुलाया गया है?

By adarsh

Published on:

बाबरी मस्जिद का विध्वंस

राम मंदिर में किसे-किसे बुलाया गया है?

भारत के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है। 22 जनवरी, 2024 को अयोध्या में राम मंदिर का भव्य उद्घाटन होने जा रहा है। इस उद्घाटन समारोह में देश-विदेश से लाखों लोग शामिल होने की उम्मीद है।

इस ऐतिहासिक समारोह में शामिल होने के लिए देश के सभी प्रमुख नेताओं को आमंत्रित किया गया है। इनमें राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, राज्यसभा अध्यक्ष एम. वेंकैया नायडू, गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, सुशील मोदी, मुख्तार अब्बास नकवी, धर्मेंद्र प्रधान, मनोज सिन्हा, हरदीप सिंह पुरी, जितेंद्र सिंह, पीयूष गोयल, स्मृति ईरानी, अनुराग ठाकुर, अरुण जेटली, प्रकाश जावड़ेकर, मेनका गांधी, नितिन नवीन, गजेंद्र सिंह शेखावत, महेंद्र नाथ पांडेय, अश्विनी वैष्णव, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरेन रिजिजू, हर्षवर्धन, भूपेंद्र यादव, प्रल्हाद जोशी, संतोष गंगवार, राजकुमार सिंह, अजय मिश्र टेनी, रमेश पोखरियाल निशंक, जयराम रमेश, विजय चौहान, गौरव गोगोई, अनुराधा प्रसाद, अर्जुन राम मेघवाल, अशोक गहलोत, भूपेश बघेल, योगी आदित्यनाथ, नीतीश कुमार, लालू प्रसाद यादव, ममता बनर्जी, के. चंद्रशेखर राव, एच.डी. कुमारस्वामी, चरणजीत सिंह चन्नी, अमरिंदर सिंह, जयंत चौटाला, शरद पवार, उद्धव ठाकरे, देवेंद्र फडणवीस, नीरज कुमार बंजारी, जगन मोहन रेड्डी, विजय कुमार देवेंद्र, बी.एस. येदियुरप्पा, पलानीस्वामी, एम.के. स्टालिन, करुणानिधि, डीएमके, कांग्रेस, भाजपा, बसपा, सपा, आरजेडी, टीआरएस, कांग्रेस, शिवसेना, एनडीए, यूपीए, आदि शामिल हैं।

photo1705593103

इसके अलावा, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने देश भर के 4000 संतों को भी आमंत्रित किया है। इन संतों में से कई संत राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख नेता रहे हैं।

राम मंदिर के इस ऐतिहासिक उद्घाटन समारोह का देश भर के लोगों को बेसब्री से इंतजार है। यह समारोह भारत के लिए एक नए अध्याय का आरंभ होगा।

राम मंदिर के उद्घाटन समारोह का महत्व

राम मंदिर का उद्घाटन समारोह भारत के लिए एक ऐतिहासिक घटना है। यह समारोह भारत की संस्कृति और सभ्यता के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

राम मंदिर हिंदुओं के लिए एक पवित्र स्थल है। यह मंदिर भगवान राम को समर्पित है। भगवान राम हिंदुओं के सबसे लोकप्रिय देवताओं में से एक हैं।

राम मंदिर का उद्घाटन भारत में सांप्रदायिक सद्भाव और शांति को बढ़ावा देने में मदद करेगा। यह समारोह भारत के सभी धर्मों के लोगों को एक साथ लाएगा।

राम मंदिर का उद्घाटन समारोह भारत के लिए एक नए युग का आरंभ होगा। यह समारोह भारत को एक धर्मनिरपेक्ष और समृद्ध देश बनाने में मदद करेगा।

adarsh

Leave a Comment