शिव चालीसा

By adarsh

Updated on:

शिव चालीसा

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

जय गिरिजापति दीनदयाला।
सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥

भाल चंद्रमा सोहत नीके।
कानन कुंडल नाग फनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाए।
मुण्डमाल तन छवि निहारे॥

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे।
छवि को देख नाग मुनि मोहे॥

मैना मतुकी पूँछ हारे।
कर में सिर धरत चंद्रविचारे॥

देहो दान विदित रूप धारी।
त्रिभुवन जन मोहि खरी॥

जटा में गंग बहाई भाली।
ललाट छवि भारती विशाली॥

भाल हंस मुकुट मिटि साजे।
कर में विष अजार बाजे॥

नागराज वासुकि शिर धारे।
त्रिपुर शिर गंध मारे॥

सहस्त्र बाहु तन धर सोई।
तोहि शक्ति भगति न जो तोई॥

त्रिपुरारि त्रिबिदिस न राजनी।
महिमा अति अभिमानी॥

मातु जञनी पितु भृत्य ज्ञानी।
सुत तब तब नहिं जानी॥

सकल सहित जग जन्यो अधारी।
सन्मुख बिरंची नरप्रतिहारी॥

त्रिदश शिर चढ़ छवि भारी।
लिए त्रिपुर सुरासुर मारी॥

जय जय जय अनंत अविनाशी।
करत कृपा सब के घट वासी॥

दूषण भय निकंदन अरि नाशी।
केर सगर बासी सब काशी॥

धरत बारिधि देवता नागा।
गहि अगर गगन मंडल आगा॥

भये भूत प्रेत पिशाच निकराला।
डाकिनी शकिनी ब्रह्मणी आवाज बुलाई॥

सोहै अस्त्र तेज तुम्हारे ताज बने।
बैदिक मन्त्र तुम्हारे वेदी विच बसे॥

सुर नर मुनि जन आरती उतारे।
जय जय जय अनंत अविनाशी॥

जय जय जय अनंत अविनाशी।
करत कृपा सब के घट वासी॥

दोहा:
पूत कपोति तुम्हारी गाथा।
साधु संत करत सब राठा॥

जय गिरिजापति दीनदयाला।
सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥

शिव चालीसा का महत्व

शिव चालीसा हिंदू धर्म में भगवान शिव को समर्पित एक प्रसिद्ध पाठ है। शिव चालीसा में शिव जी के सभी गुण, महिमा और कृपा का वर्णन है। यह चालीसा भगवान शिव के भक्तों द्वारा विशेष श्रद्धा और भक्ति से पढ़ी जाती है। शिव चालीसा को पढ़ने से भक्त की भावनाएं स्थिर होती हैं और उन्हें आध्यात्मिक उन्नति मिलती है। इस चालीसा का पाठ भगवान शिव की कृपा प्राप्त करने और उनके आशीर्वाद से आनंदित होने का एक मार्ग है।

21 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे

शिव चालीसा के बहुते लाभ

शिव चालीसा के पाठ से शिव भक्तों को अनेक लाभ प्राप्त होते हैं। इसमें कुछ महत्वपूर्ण लाभ हैं जो निम्नलिखित हैं:

1. मानसिक शांति

शिव चालीसा का नियमित पाठ करने से मन को शांति मिलती है। इसके प्रभाव से चिंताओं और तनाव का समाधान होता है, और व्यक्ति चिन्तामुक्त होता है।

2. आर्थिक समृद्धि

शिव चालीसा का पाठ करने से आर्थिक समृद्धि में वृद्धि होती है। भगवान शिव की कृपा से व्यक्ति के जीवन में धन की प्राप्ति होती है।

3. शारीरिक स्वास्थ्य

शिव चालीसा के पाठ से व्यक्ति का शारीरिक स्वास्थ्य सुधरता है। यह शिव जी के आशीर्वाद से होता है और व्यक्ति स्वस्थ रहता है।

शिव चालीसा का पाठ कैसे करें

शिव चालीसा का पाठ करने के लिए व्यक्ति को कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. ध्यान स्थिर करें

शिव चालीसा का पाठ करने से पहले, व्यक्ति को अपने मन को शांत करना चाहिए। ध्यान स्थिर करने से चालीसा के पाठ का अधिक प्रभाव होता है।

2. पूजा और अर्चना

शिव चालीसा का पाठ करने से पहले, व्यक्ति को भगवान शिव की पूजा और अर्चना करनी चाहिए। इससे पाठ का फल दोगुना होता है।

3. नियमितता

शिव चालीसा का पाठ नियमित रूप से करना चाहिए। यह व्यक्ति के जीवन में सफलता और सुख-शांति को लाता है।

शिव चालीसा के महत्वपूर्ण श्लोक

शिव चालीसा में कुल 40 श्लोक होते हैं, जो भगवान शिव की महिमा और गुणों का वर्णन करते हैं। कुछ महत्वपूर्ण श्लोक हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं:

अंगिकृत चन्दन मृगमदां, चरुचित बिल्व पत्रम्। सुपुष्पित दिव्यम् उत्सवैः, भोगि अर्चित संस्कृतम्॥

शिव चालीसा जिसे पढ़े, भक्ति शिव की हो जाए। भवजल से उद्धार करे, उसका जीवन सफल बनाए॥

शिव चालीसा के फायदे

शिव चालीसा के पाठ से व्यक्ति को अनेक फायदे होते हैं। यह चालीसा भक्त के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को सुधारती है। इसके अलावा, शिव चालीसा के और भी कई फायदे हैं:

1. आत्मिक उन्नति

शिव चालीसा के पाठ से भक्त की आत्मिक उन्नति होती है। यह उसके मानसिक और आध्यात्मिक विकास को प्रोत्साहित करती है।

2. कष्टों का निवारण

शिव चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति के कष्टों का निवारण होता है। भगवान शिव की कृपा से उन्हें समस्याओं से मुक्ति मिलती है।

3. समृद्धि और सफलता

शिव चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति को समृद्धि और सफलता प्राप्त होती है। भगवान शिव की कृपा से उन्हें विभिन्न क्षेत्रों में सफलता मिलती है।

नौकरी पाने के लिए हनुमान जी की पूजा कैसे करें?

अवसर और उत्सव

शिव चालीसा के पाठ को करने के विशेष अवसर और उत्सव भी मनाए जाते हैं। महाशिवरात्रि और कार्तिक पूर्णिमा जैसे त्योहारों पर शिव चालीसा का पाठ करने से भगवान शिव को प्रसन्न किया जाता है।

धर्मिक महत्व

शिव चालीसा का पाठ धार्मिक दृष्टिकोन से भी महत्वपूर्ण है। यह भगवान शिव के भक्तों की श्रद्धा और विश्वास को बढ़ाता है और उन्हें आध्यात्मिक उन्नति की दिशा में प्रेरित करता है।

निष्कर्ष

शिव चालीसा हिंदू धर्म में भगवान शिव को समर्पित एक महत्वपूर्ण पाठ है। इस चालीसा के पाठ से भक्त को मानसिक और आध्यात्मिक उन्नति होती है। शिव चालीसा को नियमित रूप से पाठ करने से व्यक्ति को आर्थिक समृद्धि और सफलता मिलती है।

adarsh

Leave a Comment