क्या आप जानते हैं क्यों  कहा जाता है भगवान् राम को पुरुषोत्तम

सबसे पहले समझते हैं कि क्या अर्थ है पुरुषोत्तम का 

"पुरुषोत्तम" शब्द संस्कृत  भाषा में है और इसका अर्थ होता है "उत्कृष्टतम पुरुष" या "सर्वोत्तम पुरुष" 

यह शब्द भगवान राम के महानतम गुणों, कर्तव्यपरायणता, परिपूर्णता, और आदर्श व्यक्तित्व को संकेतित करता है।  

भगवान राम को धर्म, कर्म, और नीति के प्रतीक माना जाता है,  

भगवान राम भक्तिमार्ग  पर चलने वाले लोगों के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व हैं जिन्होंने उदाहरणवादी जीवन जीता था 

क्योंकि इस शब्द की उत्पत्ति महाभारत से जुड़ी हुई है।  महाभारत में "पुरुषोत्तम" शब्द का पहला उल्लेख 'भगवान श्रीकृष्ण' के  रूप में किया गया था 

जब उन्होंने अर्जुन को ज्ञान देने के लिए 'भगवद गीता' में उनकी दिव्य दृष्टि का वर्णन किया था। 

उनके आदर्शों, नीति, कर्तव्य, और भक्ति को ध्यान में रखते हुए, वे एक "पुरुषोत्तम" हैं 

तीन बार हनुमान चालीसा पढ़ने का तरीका