1.नियमित रूप से व्रत रखना चाहिए, और शारीरिक और मानसिक शुद्धि बनाए रखनी चाहिए।

2.यमित रूप से पाठ करने का समय और दिन चुनें, जैसे कि रोजाना सुबह या शाम 

3.हनुमान जी के प्रति अपनी भक्ति और समर्पण की भावना रखें 

4. हनुमान जी के गुणों का पालन करें और उनके आदर्शों को अपने दैनिक जीवन में अपनाएं 

5.“ॐ हनुमते नमः” या “ॐ श्री हनुमते नमः” जैसे मंत्रों का जाप  

6.हनुमान जी के मंदिर में या किसी धार्मिक स्थल में सेवा करने का प्रयास करें 

7.हनुमान चालीसा को सिद्ध करने में सब्र और विश्वास बनाए रखें 

8.अहिंसा, ध्यान, आत्मविकास, और प्रेम की प्राथमिकता दें